क्या विभीषण की नाकामी के कारण हुआ था श्रीराम- रावण युद्ध?

श्रीराम- रावण युद्ध का मुख्या कारण आज सभी जानते है। रावण ने सीता का अपहरण कर लिया था इसलिए यह युद्ध शुरू हुआ पर बहुत से लोग यह नहीं जानते कि विभीषण भी इस युद्ध के बहुत बड़े पात्र है।

Vibhishan’s Efforts Lead to Sriram-Ravana War

दरअसल जब त्रैतायुग में रावण ने सीता को हर लिया था तब श्रीराम की सेना रावण से युद्ध करने के लिए तैयार हो रही थी।

यही समय था जब लंकापति (रावण) के छोटे भाई विभीषण ने तय किया कि वह अपने भाई के विचारों में परिवर्तन जरुर लाएँगे ताकि वह बच सकें।

जब विभीषण रावण के पास पहुंचे तो वहां भवन में वेदों का पाठ हो रहा था।

[ जरुर पढ़ें: जानें बुजुर्गों के रहने के लिए सबसे बेहतरीन 10 देश ]

उस समय विभीषण अपने भाई रावण के सामने हाथ जोड़कर खड़े हुए और कहने लगे की लंका में तब से अपशकुन हो रहे है जब से आप सीता जी को यहाँ ले आये है। कृपया करके उन्हें सम्मान सहित अपने पति के पास लौटा दीजिये अन्यथा लंका को बर्बाद होने से कोई नहीं बचा पाएगा।

अब इसे विभीषण की नाकामी कह लीजिये (कि वह अपने भाई को समझा नहीं पाया) या रावण की मूरखता कि वह विभीषण कि बात को समझ ना पाया।

[ यह भी पढ़ें: दिल थाम कर पढ़े ताजमहल की कुछ अनसुनी अनकही बातें ]

रावण ने विभीषण की बात तो नहीं मानी पर ऐसी बातें सुनकर उसका मन जरुर अशांत हो गया और दूसरे दिन उसने मंत्रीपरिषद को बुला लिया।

रावण ने खुद उल्लेख किया कि वह अपने क्रोध और कामवासना को काबू नहीं कर पा रहे थे इसलिए उन्होंने निरंतर अपने मंत्रियों की सलाह ली जिससे उन्हें काफी शान्ति मिली।

रावण ने कहा कि न ही वह सीता को लौटा सकता और न ही उनके प्रति अपनी भावनाओं को बदल सकता। वह हार मानने के लिए बिलकुल भी तैयार नहीं था।

[ जानिये: आखिर क्यों 60 चीनी विद्वान सीख रहे है संस्कृत भाषा ]

Submit Your Query

How Can We Help You?

We make international communication easier to let you speak the target mother tongue.

Receive top thoughts on translation industry and global market trends, ideas, tips and more by industry leaders today.

Tips for Business Success

Translation Industry Insights

Thoughts on Translators

Article Categories


Related Post

Related Post